#Kavita by Jasveer Singh Haldhar

गीत -ग्राम देवता

——————–

सिद्ध बाबा नाम के इक देवता हैं गाँव में ।

आज तक उनकी कृपा कांटा लगा ना पाँव में ।

खेल कर बाबा के दर से ज्यों हि अपने घर गया ,

बात बचपन की सुनो उस रात को में डर गया ,

स्वप्न में हाथी खड़े को देख पीपल छाँव में ।

सिद्ध बाबा नाम के इक देवता हैं गाँव में ।1।

गाँव का भूगोल औ इतिहास है उनमें जमा ,

मूल सारी जातियों का थान में उनके रमा ,

जिंदगी की उलझने सुलझें उसी की ठाँव में ।

सिद्ध बाबा नाम के इक देवता हैं गाँव में ।2।

लोग आते दूर से उनको मनाने के लिये ,

दीप आशा के जलाते दुख भगाने के लिये ,

संकटों से मुक्ति मिलती बैठ उनकी नाँव में ।

सिद्ध बाबा नाम के इक देवता हैं गाँव में ।3।

थान बाबा का हमारे आचरण का केंद्र है ,

प्राण का रक्षण करे वो आवरण अमरेंद्र है ,

ज्ञान “हलधर “का जगा है आप सीखे दाँव में ।

सिद्ध बाबा नाम के इक देवता हैं गाँव में ।4।

हलधर -9897346173

 

73 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.