#Kavita by Jasveer Singh Haldhar

छंद -अंताक्षरी

—————-

एक गीत एक बार ,दुहरा ना बार बार !

गीत गाना सीखने का खेल है अंताक्षरी !!

जो भी दोहराये गीत ,बाहर होने की रीत !

ज्ञान को बड़ाने वाला ,तेल है अंताक्षरी !!

नियम बड़े कठोर ,बैठें सब दो ही ठोर !

काव्य का सुहाना ताल मेल है अंताक्षरी !!

छोटे बड़े सभी खेलें ,बिन पढे ज्ञान मिले !

सबको साथ ढोने वाली रेल है अंताक्षरी !!

हलधर >9412050969 /9897346173

49 Total Views 6 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.