#Kavita by Jasveer Singh Haldhar

घनाक्षरी छंद – तनखईया

—————————–

कार मानो अनुदान , लोन से लिया मकान ,

कर्ज से सारा समान , बाकी सब मौज  है !

लोन ले पढ़ाये बच्चे ,खोजे संस्थान अच्छे ,

नौकरी के रंग सच्चे , बाकी सब मौज  है !

खेत  से  रसद  आई ,यारों  से  मदद  पाई ,

किस्तों ने पगार खाई , बाकी सब मौज है !

शादी  व्यवहार   हेतु ,  रोग  उपचार  हेतु ,

नौकरी आधार सेतु , बाकी सब मौज है !

हलधर -9897346173

Leave a Reply

Your email address will not be published.