#Kavita by Jasveer Singh Haldhar

कविता -पहरेदार वतन के

——————————-

देश लूटकर भाग न जायें ,नकली नंबरदार वतन के ।

जागो कलम सिपाही जागो ,सच्चे पहरेदार वतन के ।।

धूप चढ़े सोकर उठते हैं ,वैसे भी वो बड़े लोग हैं ।

मंचों पर सुंदर दिखते है ,मन में उनके कुष्ठ रोग हैं ।

चारा ,ईंधन ,चीनी खायी ,देता है इतिहास गवाही ,

गाँधी औ जे पी के पीछे ,बने रहे हकदार वतन के ।

जागो कलम सिपाही जागो ,सच्चे पहरेदार वतन के ।।1

धरे हाथ पर हाथ न बैठो ,कविता को हथियार बना लो ।

लोक तंत्र के रक्षण हेतू ,छंदों पर अब धार लगा लो ।

सत्य तथ्य जन जन तक लाओ ,सोया वातावरण जगाओ ,

संसद में आकर ना बैठें ,  झूठे चौकी दार वतन के ।

जागो कलम सिपाही जागो ,सच्चे पहरेदार वतन के ।।2

माना कल तक हम सोये थे ,लेकिन अब तो जाग रहे हैं ।

अंदर हो या बाहर दुश्मन , सीधे गोली दाग रहे हैं ।

घोटाला जिनका है धंधा ,लोक तंत्र को मानें अंधा ,

आतंकी को नायक कहते ,पुस्तक में गद्दार वतन के ।

जागो कलम सिपाही जागो ,सच्चे पहरेदार वतन के ।।3

जिनके हाथों में छाले हो ,वो ही माली हों उपवन का ।

पैरों के छालों में जिसके ,लेखा जोखा हो जन गण का ।

जिसका स्वेद महक फैलाये ,वाणी में हो वेद ऋचायें ,

हलधर “दिल्ली मांग रही है ,सच्चे जन सरदार वतन के ।

जागो कलाम सिपाही जागो ,सच्चे पहरेदार वतन के ।।

हलधर -9897346173

[8:53 AM, 7/3/2018] Jasveer Singh Haldhar:

Leave a Reply

Your email address will not be published.