#Kavita by Kavi Dr Madan Gopal

काश्मीर में आतंक के सर्व नाश हेतु संकल्पित मेरी रचना

**

बन रहे आतंकी घर घुसकर सुधारे जाएंगे !

मजहबी जिन्नाओं के कपड़े उतारे जाएंगे !!

जो धरम के नाम पर अपने वतन को बाटते !               ………

भाई नहीं गद्दार वे खुलकर पुकारे जाएंगे !!               …   ……    .

हिंसा घृणा आतंक हत्या व हलाला त्यागकर !             ……

वैदिक सनातन के नियम अब बस उभारे जाएंगे !!             ………..

मां भारती को गाली देने वाले इस ओवैसी संग !               …………………………….

और ना पल मातृभू मैं अब गुजारे जाएंगे !!

चार से चालीस बच्चे व हरम की नीचता !

ये गंदे कबीलाई नियम सिरे से नकारे जाएंगे !!                         ………….

मजहबी आतंकवादी सब दरिंदे मारकर !                 .

……………..सपने सलोने भगवा के शाश्वत सवारे जाएंगे !!       .     .         ……………

क्रूरतम जेहादी बनते जो मदन इस्लाम के !             .    .            ……….

 

शीश वे नापाक धड़ से अब उतारे जाएंगे !!                                              राष्ट्र कवि डॉ मदन गोपाल बिरथरे “मार्तण्ड”

बरिष्ठ प्रबंधक प,नै, बैँक    7905906204–7905907122

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.