#Kavita by Kishor Chhipeshwar Sagar

शहीदों के नाम एक दीपक मैंने भी जलाया है
————————————–
शहीदों के नाम एक दीपक मैंने भी जलाया है
जय हिंद वंदे मातरम मैंने भी गाया है
देश के तुम हो रक्षक प्रहरी बनकर
मान बढ़ाया है
शहीदों के नाम………
तुम ही सच्चे देश भक्त ,रण भूमि में जान गंवाया  है
शहीदों के नाम………
नमन तुमको कोटि कोटि हमारा हमने शीश झुकाया है
शहीदों के नाम……….
याद रहेगी गौरव गाथा ,निष्ठा से तुमने कर्तव्य निभाया है
शहीदों के नाम……….
धन्य है वो माता जिसने तुमको जन्मा ,पुत्र वो शेरदिल कहलाया है
शहीदों के नाम………..
जब तक सूरज चाँद रहे अमर तुम्हारा नाम, अलख देश प्रेम की जगाया है
शहीदों के नाम……..
-किशोर छिपेश्वर”सागर”
बालाघाट

Leave a Reply

Your email address will not be published.