# Kavita by Krishan Kumar Tiwari Neerav

(गीत)
यह अगस्त मेरे भारत का भाग्यशाली महीना है ,
पर्व पन्द्रह अगस्त का सभी पर्वों में नगीना है ।
आज की ही तवारीख में ;
मुल्क आजाद भारत हुआ ,
दासता की कठिन बेड़ियों से जकड़ा आबाद भारत हुआ।
मिट गयीं वक्त की बंदिशें
लगा अपना करीना है।
यह अगस्त मेरे भारत का भाग्यशाली महीना है।1।
इंद्रधनु अपने कर में लिये
नभ में घन गर्जना कर रहे,
आरती साजकर भारती की
हर सुमन बंदना कर रहे।
रुख हवाओं का है लग रहा भावनाओं से भीना है।
यह अगस्त मेरे भारत का भाग्यशाली महीना है ।2।
यह चमन खून से सींचकर
एक इतिहास जो लिख गये, नौजवानी में संसार से
जो वतन के लिए मिट गये।
उन शहीदों के आदर्श पर
उम्र भर हमको जीना है ।
यह अगस्त मेरे भारत का भाग्यशाली महीना है।3।
डॉ. कृष्ण कुमार तिवारी नीरव

Leave a Reply

Your email address will not be published.