#Kavita by M D Juber

मैं हूँ स्टूडेन्ट

 

पहले से मैट्रिक तक फ्री

पड़ती नहीं गिनती है सीढ़ी

 

निरर्थक घूमती है पर फॉर्म भर देती

किताब छुट्टी नहीं सिर्फ सरस्वती को मानती

 

परीक्षा देने के लिए बनती है चीट

मनाती है भगवान को पढ़े,खिड़की के पास सीट

 

नकल करके किसी तरह हो जाता है पास

सीना फुलाकर घूमते हैं करते हैं बकवास

 

इंटर में जाते हैं लेते हैं विज्ञान

नॉलेज तो शुन्य कल्पना है महान

 

बाल है सिनेमा कट ड्रेस भी है न कम

सबको बताता चलता है हीरो है हम

 

लिखना तो और था पर टाइम है अबसेन्ट

फिर मैं न कवि, न लेखक, मैं हूँ स्टूडेंट

 

✍मु.जुबेर हुसैन”कविराज”

गोड्डा,झारखण्ड

मो.-9709987920

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.