#Kavita by Mainudeen Kohri

साख  बधाई लुगायां,इतिहास भरै साख

पन्ना – पदमण,मीरां  री पहचाण

रंग  रुड़ो  घणो है राजस्थान

महारो…………………………..!

खनिज  सम्पदा सूं  भरपूर

अरावली  खड़ययो  है सीनों ताण

गुरुशिखर है  महारो   स्वाभिमान

महारो…………………………..!

 

भक्ति – शक्ति  री आ ”  भोम जामण

प्रताप  -दुर्गादास  री आ” भागण

वीर – शहीद  इय्यै  माथै  क़ुरबान

महारो………………………….!

 

जाम्भो -तुलसी  कपिल -करणी जठै

सूफी – चिश्ती ,ब्रह्मा – श्री नाथ अठै

धीरां -पीरां – वीरां  रो राजस्थान

महारो………………………..!

 

ऊंचै – ऊंचै  धोरां री  भरमार

दुर्ग -किला – महल -हवेलियां

सैलाण्यां रो मन मोव्वै राजस्थान

महारो…………………………!

 

मिनखपणै अर् भाईचारै री मिसाल

होळी ईद दिवाळी मनावें हर साल

रामसा पीर  एकता  रो करै बखाण

महारो……………………………!

Leave a Reply

Your email address will not be published.