#Kavita by Martand National Poet

पावन पुनीत संत गोस्वामी तुलसी दास जी की जयंती ” पर संत- बाबा तुलसी को नमन” —
**
“सब करे पूर्ण अरमान तुम्हारी रामायण !

है मानव को वरदान तुम्हारी रामायण !!
**

राम- नाम -आसान डगर दे !

ह्रदय बीच मूरत प्रभु भर दे !!

जीने की नव राह-सिखाती !

सेवा–संस्कृति भाव सिखाती !!

नव ज्ञान –मयी विज्ञान तुम्हारी रामायण !

है मानव को वरदान तुम्हारी रामायण !!
**

तुलसी – कृति जिनके घर आती !

रिद्धि –सिद्धि सब सुख भर जाती !!

कितने – पंडित – संत बनाये !

कितनो को श्री-मंत बनाये !!

कुछ बना गयी भगवान तुम्हारी रामायण !

है मानव को वरदान तुम्हारी रामायण !!

**

राष्ट्र –धर्म -नैतिक परिचालन !

मात -पिता –गुरु आज्ञा पालन !!

का शिक्षा-मयी अभियान तुम्हारी रामायण !

है मानव को वरदान तुम्हारी रामायण !!
**

सत्य -सनातनी पाठ पढाने!

असुरों को सामूल मिटाने !!

को बनी देवासुर संग्राम तुम्हारी रामायण !

है मानव को वरदान तुम्हारी रामायण !!
**
रामायण ना रामायण है !

जीवन – शैली पारायण है !!

मर्यादाओं को अपनाकर !

संस्कृति मानवता पनपाकर !!

लगे जग को ग्रंथ महान तुम्हारी रामायण !

है मानव कॊ वरदान तुम्हारी रामायण ! !
**
राष्ट्र-कवि- डा. मदन गोपाल” मार्तण्ड” नई-दिल्ली सम्पर्क-सूत्र—08800994438–09506080703

Leave a Reply

Your email address will not be published.