#Kavita by Mukesh Bohara Aman

बाल -गीत

 

गौ मैया जी

 

गौरी गौरी गौ मैया जी ।

मन को भाती है भैया जी ।।1।।

 

गइया मक्खन, दुग्ध देती है ।

जग के सारे सुख देती है ।।

 

कृष्ण-कन्हैया मन गइया जी ।

देवों की भी है मैया जी ।।

गौरी गौरी गौ मैया जी……।।2।।

 

गौ मैया की पूजा, वन्दन ।

गौ चरणों की मिट्टी चन्दन ।।

 

बात स्वार्थ,  छोड़ो भैया जी ।

गौपाल बनो, अब सब भैया जी ।।

गौरी गौरी गौ मैया जी….. ।।3।।

 

बाल-गीतकार

मुकेश बोहरा अमन

बाड़मेर राजस्थान

8104123345

233 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.