#Kavita by Mukesh Kumar Rishi Verma

सैनिक की पाती

——————–

दिन-ब-दिन बढ़ती जाती कश्मीर समस्या,

अब इसको सुलझाने दो |

सेना को आगे बढ़ने दो ||

 

खूब खा लिये पत्थर उनसे,

अब सबक सिखाने दो |

दुश्मन पर कहर ढहाने दो ||

 

शांतिवार्ता होती रही विफल हमेशा,

अब लातों के भूतों को लातों से समझाने दो |

वे जेहादी दानव हैं उनको हमें मिटाने दो ||

 

घात लगाकर पीछे से करते हैं वार,

अब हमको परमीशन दो |

उनको उनकी औकात बताने दो ||

 

खूब सहा है खूनी ताण्डव,

अब और अधिक न संकट की घड़ी आने दो |

हमें रण का बिगुल बजाने दो ||

 

श्वेत घाटी हो चुकी सुर्ख – लाल,

अब इसका रंग बदलने दो |

हमें कश्मीर समस्या हल करलेने दो ||

 

– मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

गांव रिहावली, डाक तारौली गुर्जर,

30 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.