#Kavita by Mukesh Kumar Rishi Verma

बाल रचना – बारिश आई झमाझम

——————————————

 

बारिश    आई   झमाझम |

मोर      नाचे     छमाछम ||

मेढ़क    बोला   टर्र  –  टर्र |

खटिया   करे   चर्र  –  चर्र ||

 

खेतों  में   फैली  हरियाली |

गुड़िया  नाची  दे दे  ताली ||

ठुमक – ठुमक आई बकरी |

घूमी   सविता  की  चकरी ||

 

फुदक-फुदक चिड़िया आई |

दाना  चुंग  पोखर में नहाई ||

सूरज    ने    तपना   छोड़ा |

बहुत   हिनहिनाया   घोडा ||

 

बारिश     आई    झमाझम |

मोर      नाचे      छमाछम ||

कोयल   ने   मचाया   शोर |

पानी   –   पानी    चहुंओर ||

 

— मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

ग्राम रिहावली, डाक तारौली गुर्जर,

फतेहाबाद, आगरा, 283111

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.