#Kavita by Naveen Kumar Jain

महावीर फिर आओ इक बार

**

युग की है यही पुकार,

फिर हो महावीर अवतार

जियो और जीने दो, गूँजे

हर घर, मंदिर, हर द्वार

युग की है यही पुकार,

फिर हो महावीर अवतार

सत्य, अहिंसा धर्म हो

मिट जाए अत्याचार

युग की यही पुकार,

फिर हो महावीर अवतार

हे वीर ,अतिवीर,सन्मति

हे महावीर, हे वर्धमान

प्राणियों की सुनो पुकार

कर दो सबका कल्याण

गाय और सिंह एक घाट

फिर साथ पिएँ पानी

दिगंबर श्वेतांबर भेद मिटा

जैन उर धरें माँ जिनवाणी

युग की है यही पुकार,

फिर हो महावीर अवतार

महावीर के उपदेशों पर

चले सारा संसार

युग की है यही पुकार,

फिर हो महावीर अवतार

Leave a Reply

Your email address will not be published.