#Kavita by Nitish Kumar Rajput

कहो हमारे कुल की कैसे कोई एक कहानी हो।

मैं कबीर का वंशज तुम मीरा सी एक दीवानी हो।।

 

पीड़ा जिसको मिली विरासत प्रेम गीत कैसे गाए

बोलो कैसे प्रेम डगर पर वो हंसकर बढता जाए

उस पर ये शापित यौवन तुम निर्मल एक जवानी हो

कहो हमारे कुल की कैसे……..।

 

हम बंजारे भाग्य हमारे पूरा जीवन रोना है

जो कुछ भी है पास हमारे इसको भी खो देना है

मेरा जीवन दोपहरी  तुम पूरी शाम सुहानी हो

कहो हमारे कुल की कैसे……..।

 

पूरा जीवन बिन वैभव क्या बोलो तुम रह पाओगी

और मिलेंगी कठनाई क्या उनको भी सह पाओगी

मैं केवल दु:ख का सूचक तुम सुख की एक निशानी हो

कहो हमारे कुल की कैसे……..।।

 

नितिश कुमार राजपूत

09759542515

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.