#Kavita by Pradeep Mani Tiwari

हिन्दवासियो जागो,अब मत सोते सिंह शुमार रहो।

आज़ादी की और लड़ाई लड़ने को तैयार रहो।

गोरों से आज़ाद हुए अब कालों से आज़ाद करो।

कहो इन्हें ये हिन्द वतन अब और नहीं बर्वाद करो।

बेरोजगार की फौज़ बड़ी कोई उनका माई बाप नहीं।

शिक्षा संग देंगे रोजगार करता ये कोई प्रलाप नहीं।

बस इसीलिए अब आज़ादी का हमको बिगुल बजाना है।

हो न्याय ब्यवस्था का शासन हम सबने मन में ठाना है।

हाँथ मिलाकर चले हिन्द के वासी वतन की राह पर।

आज शहीदो की अर्थी पर सुमन चढ़ाने आह पर।

सभी संग हो कदम मिलाकर चलें प्रगति की राह पर।

साथ चलेंगे प्रण ठाना है एक दूजे की चाह पर।

फूट डालने वाले सदियो से हम पे है राज किया।

भाग खड़े तब हुए लुटेरे जब मिल कर आवाज़ किया।

आन पड़ा है वक्त आज अब इनका पर्दाफाश करो।

भ्रष्ट लुटेरो की शामत हो इन पे मत विश्वास करो।

एक बार फिर भगतसिंह बन आओ चंद्रशेखर सुभाष।

जयचंद हैं जितने छाँट छाँट तत्क्षण कर दो उनका विनाश।

सत्ता संग खड़े दलाल जो हैं प्रतिकार करेंगे हम उनका।

जो चीन्ह रेवड़ी बाँटें नहिं आभार करेंगे हम उनका।

हर वर्ग जाति मज़हव वालो हम कदम मिलाकर आज चलें।

ले हाँथ तिरंगा भारत का सबको संग लेकर आज चलें।

हिन्द वासियो आओ हम आज़ादी का आग़ाज करें।

देशी अंग्रेजों से हो मुक्त आओ हम अपना राज करें।

★★★★★★★★★★★★

ओजकवि प्रदीप ध्रुवभोपाली म.प्र

मो.-09589349070

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.