#Kavita by Rajendra Bahuguna

चोर निकल कर भाग गया

इस काँग्रेस ने पाला इनको बी.जे.पी.ने बडा किया

दामोदर ने  हाथ  पकड के सही ढंग से खडा किया

ये ही टुच्चे आज देश की  राजनीति को पाल रहे हैं

चोर चकारी  करके चन्दा सब झोली में डाल रहे हैं

 

हर सत्ता से अनुदान बैंक में इसीलिये तो आता है

नीरव  मोदी, विजय माल्या जेैसो  को  पनपाता हेै

ये उँचे-उँचे  ठाट-बाट  और  हाट  लगी  परदशों में

क्यों  सारे  डाकू  पनप  रहे  हैं आज हमारे पैसों में

 

देश का चौकीदार नीद में दुनियाभर में भाग रहा है

सारा भारत असमंजस मे ,केवल ये ही जाग रहा है

हे पवन-पुत्र  दामोदर मोदी,धरती में भी झाँक जरा

ये दो-दो मोदी भाग गये हैं इस घटना से कांप जरा

 

एक सुना लन्दन में  बैठा,पर दूसरे का पता नही है

तू सत्ता में अस्त-व्यस्त है इसमे तेरी खता नही है

क्यों तेरे चेले हर चैनल पर इन डाकू को बचा रहे हेैं

अरूणजेतली,रविशंकर भी रास सियासी रचा रहे हैं

 

अब काँग्रेस ये घडा पाप का तेरे सिर में फाेड रही है

ये तेरे तोते,तोती इसको राहुल  के संग जोड रही हेै

इस गफलत में सारे डाकू मजा राष्ट्र का उठा रहे हेैं

दोनो दल प्रमाण सियासी  हर चैनल में जुटा रहे हैं

 

चौथा स्तम्भ देश का निर्णय सिन्धु बनकर बैठा है

एञ्कर को देखो ये कैसे न्याय बन्धु तनकर ऐंठा है

तर्को ओैर कुतर्को से बस सत्ता दल को बचा रहा है

सही कहो  तो  आज मीडिया  डेढ अरब नचा रहा है

 

क्यों माल लूट कर सारे  डाकू भाग गये परदेशों को

अब ढूंढ रहा हेै बैंक सियासी  दबे  हुये उन केशों को

यहा निकल गया हैे साँप,लकीरे पीटो अब चौराहे में

कवि आग ये  खेल सदा से  हुआ  सियासी  साये में।।

राजेन्द्र प्रसाद बहुगुणा(आग)

मो0 9897399815

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.