#Kavita by Rakesh Dhar Dwivedi

प्रिय तुम मेरी कविताओं मे आओगे

जब रात चादनी रो रोकर
कोई गीत नयी सुनाएगी
ओस की बूँद बनकर
धरती पर वह छा जाएगी
उसकी उस मौन व्यथा को
को तुम शब्दो का रूप दे जाओगे
प्रिय तुम मेरी कविताओ में आओगे
जब आँख के आसू बहकर के
कपोलो पर ठहरे होगे
जब काजल के शब्दो ने
कुछ गीत नए लिखे होगे
तब इन गीतो के शब्दो मे
तुम ध्वनि बनकर बस जाओगे
प्रिय तुम मेरी कविताओ मे आओगे
जब पीड़ा अपने स्वर को
कैनवस पर मुखरित करेगा

गजल और गीत बनकर वो
मन मन्दिर को हर्षित करेगी
तब तुम श्याम की बासुरी बन करके
तन-मन को महकाओगे
प्रिय तुम मेरी कविताओ मे आओगे

Leave a Reply

Your email address will not be published.