#Kavita by Shriyansh Gupta

श्रापित संपदा

 

उद्योगीकरण के आँधी में

जब बुझने लगती पर्यावरण की बाती

तब करने लगती धरती  त्राही-त्राही

और  तब

श्राप बनती संपदा

किसी स्थान के लिए

तब मजबूर होकर पलायन करता

हर एक आदमी।

उद्योगीकरण की मशाल देखकर

बुझने लगती पर्यावरण की बाती

और लोगों को गलती समझ न आती

जहाँ बहती थी मिट्टी की खुशबू

वहाँ आती अब धुएं की बदबू।

श्रापित संपदा के ही कारण

शरणार्थी बना वही का निवासी आधुनिकता का दौड़ मे

भुलाना नही पर्यावरण को

वरना पछताओगे

कुछ नहीं पाओगे

 

श्रीयांश गुप्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published.