#Kavita by Sumit Bhardwaj

माता- पिता को समर्पित मेरी एक छोटी सी कविता…..

 

 

माँ बाप की ममता के आगे,

हर प्यार अधूरा लगता है,

 

जब रूठे हों माँ बाप मेरे,

संसार अधूरा लगता है,

 

माता पिता की चाहत का,

जीवन मे मोल नहीं होता,

 

माँ बाप से बढ़कर दुनिया में,

कुछ भी अनमोल नहीं होता,

 

माँ बाप की ममता की महिमा,

धरती अम्बर भी गाता है,

 

माँ बाप के कोमल चरणों मे,

ईश्वर भी शीश झुकाता है,

 

 

सुमित भारद्वाज

9125713792

लखनऊ

Leave a Reply

Your email address will not be published.