#Kavita by Sunil Raghuvanshi

दो-दो दिग्गज गिर पड़े, यू. पी. उपचुनाव में,

नासमझी कर, क्यों बैठे चाटुकारों की नाँव में,

जनता और कार्यकर्ता भुला बैठे अफवाहों में,

इसी अहम ने डूबा दिया महाशय बीच बहाव में

दो-दो दिग्गज ………………..

अब भी वक़्त बहुत हैं, टूटी कश्ती बचाने में,

लगा दो पूरी जुगत, रूठों को मनाने में,

वरना कुछ ना रह जायेगा फिर समझाने में,

क्योंकि चंद माह है शेष 2019 आने में,

दो दो दिग्गज…….…….

sunil raghuvanshi

Leave a Reply

Your email address will not be published.