#Kavita by Sunil Samaiya Hasya Kavi

अविश्वास प्रस्ताव पर त्वरित रचना

राहुल गांधी की हरकत पर

¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤

पप्पूपन से बाहर होगें ,आखिर कब तक पप्पू जी

फांकू बनकर फांक रहे थे ,आज सदन मे फक्कू जी

 

पूरा देश ठहाके देकर ,हंसी हँसा है पक्की जी

बनकर मुन्ना भाई लिये जब, मोदी जी की झप्पी जी

 

कैसा है  यह अभिनय  तेरा, कैसा है वर्ताव

गले नही लगते बड़्ड़ो के, बच्चे छूते पांव

 

बिना तर्क के बात ठोक दी, संसद के दरबार मे

बच्चापन जाहिर हो जाता, तेरा तो हर बार मे

 

स्ट्राइक को जुमला कहकर, सेना का अपमान किया

पप्पू कभी बड़ा ना होगा, पूरे देश ने जान लिया

 

ऑख मार कर तुमने फिर से ,टुच्चापन दिखलाया है

सदन मे कैसे बैठा जाता, नही बैठना आया है

 

आखिर तुमको कैसे कुर्सी, हथियाने की भूख रही

तेरे पप्पूपन से ही तो, कांग्रेस नित सूख रही

 

अब भी बदलो शाही रूतबे, वाली अपनी शैली को

अब भी बदलो स्वेत करो, तुम अपनी बुद्धि मैली को

¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤

कवि सुनील समैया

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.