#Kavita by Surendra Kumar Singh Chans

तेरा साथ
**
साथ साथ चले जीवन में
साथ साथ ठहरे पड़ावों पर
साथ साथ जले आग में
साथ साथ बहे पानी मे
साथ साथ उड़े आसमान में
साथ साथ डूबे गहराइयों में
साथ साथ खामोश रहे भीड़ में
साथ साथ चीखे चोराहे पर
साथ साथ युद्ध लड़े
साथ साथ जीते
साथ साथ हारे
साथ साथ मुस्कराए अपने हालात पर
साथ साथ डूबे खुशी के जश्न में
साथ साथ ढूंढ लाये जरूरतों का सामान
साथ साथ बहुत कुछ खोये
साथ साथ ही बहुत कुछ पाते रहे
साथ साथ महसूस किए जीवन का रोमांच
साथ साथ जिये इस दुनिया में
साथ साथ अलग हुए इस दुनिया से
और साथ साथ फिर आये
अब वो आये हैं
हमे अलग अलग करने
जो ये जानते ही नही कि
कौन हैं हम
या कौन है मेरे साथ।

सुरेन्द्र कुमार सिंह चांस

Leave a Reply

Your email address will not be published.