#Kavita by Vikram Gathania

युद्ध करो

यह युद्ध है
लड़ो इसे
बचाव की मुद्रा में
इसका सामना न करो !

वे आत्मघाती हैं
वे युद्ध ही लड़ रहे हैं  !

वे दुस्साहसी हैं
वे युद्ध मोल लिए लड़ रहे हैं
लड़ो इसे !

युद्ध करो !

303 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.