#Kavita by Vinod Bairagi

शहीद निलेश धाकड को समर्पित पंक्तियाँ।

 

देख के तुम्हे लाखों आखो रोई होगी

तुम्हेे  तो देख के भी वो भारत माता न सोई होगी ।।

 

तुम ने तो अपने प्राण दे के इतिहास लिख दिया

एक के बदले तीन कुत्तो को वही पर मार दीया

 

तुम्हारा तो शफर भी रग बिरगा होता हे

शहिद होने के बाद भी जिस्म पे तिरगा होता हे

 

तुम्हारी मातां की गोदिँ सूनी हो गईं।

उस प्यारी बहन की राखी खून में भिगो गई।

 

तुम्हारे पापा जब तुम्हारे ख्वाबो मे खोये होगे

उस घडी रात के सपने मे भी रोये होगे

 

 

फुल के कण कण ने भी तुम्हारा सम्मान किया होगा

 

धरती माता ने भी आप को हाथ जोड के स्विकार किया होगा

 

निलेश धाकड तुम्हे केसे हम भुल जायेगे

यादमें तुम्हारी लाखों दीप हम जलायेगे

 

शहिद निलेश धाकड को नमन

 

विनोद बैरागी वैष्णव

शाजापुर म.प्र.

मो.7697462007

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.