#Muktak by abhishek bharti

तलाश

ना यहाँ ना वहाँ तो बता है कहाँ,
देख ली ये जमीं और ये आसमाँ।
मैं निहारूँ तुझे आ गले से लगा,
आजमाया जहाँ ने न तू आजमा।
अभिषेक भारती”चंदन”

312 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.