#Muktak by Annang Pal Singh

सादा जीवन , सादगी , है जीवन आधार ।
मिले सकल सुख सम्पदा,ख्याति प्रसिद्धि अपार ।।
ख्याति, प्रसिद्धि अपार ,सादगी का आभूषण ।
सादा जीवन उच्च , विचारों का आकर्षण ।।
कह”अनंग” करजोरि , कीजिये खुद से वादा ।
परहित समय लगाय , जियोगे जीवन सादा ।।

**

सच्चा सुख मिलता नहीं , पाप कमाई माहिं ।
आती तो घर में दिखे , पर वह टिकती नाहिं ।।
पर वह टिकती नाहिं ,मनहिं घुस नीद उड़ावे ।
रहे न उर सुख शांति , रात दिन चैन न पावे ।।
कह”अनंग”करजोरि , बड़ा तृष्णा का गच्चा ।
पाप कमाई माहिं , नहीं मिलता सुख सच्चा ।।
अनंग पाल सिंह भदौरिया” अनंग”

Leave a Reply

Your email address will not be published.