#Muktak by Annang Pal Singh

लाठी बहुमत की सदा , मत सब जगह चलाउ  !

जो  विवेक  के मामले ,  वहाँ   विवेक  लगाउ !!

वहाँ विवेक लगाउ , समझकर काम  कीजिये  !

बुद्धि , ज्ञान के साथ , काम  अंजाम  दीजिये  !!

कह” अनंग “करजोरि   ,पीटिये मत  परिपाटी  !

करिये मत उपयोग , सदा  बहुमत  की  लाठी  !!

**

अच्छाई सबसे बड़ी , है जहान में ज्ञान  !

अज्ञानी से बड़ी ना ,  और बुराई  जान !!

और बुराई जान , नहीं कुछ भी संसारा  !

अज्ञानांधकार से दिखता  नहीं किनारा !!

कह “अनंग “करजोरि,बुरी अज्ञान बुराई !

करो ज्ञान अर्जन,जीवन की यह अच्छाई !!

**

गुणवत्ता की कसौटी , बनिये कर अभ्यास  !

उत्कृष्टता  उभारिये  ,  अपने  अंदर  खास !!

अपने अंदर  खास , गुणों को नित्य उभारो !

कैसे  परहित  होय ,  हमेशा  इसे  विचारो !!

कह “अनंग “करजोरि,बनो मत कूट प्रवक्ता !

करके नित अभ्यास ,उभारो नित गुणवत्ता !!

अनंग पाल सिंह भदौरिया “अनंग”

Leave a Reply

Your email address will not be published.