#Muktak by Annang Pal Singh

जीवन में यदि चाहते , हो तुम सतत विकाश  ।

तो समझो बदलाव को , तभी बनोगे  खास  ।।

तभी बनोगे खास , सीख लो बदलावों  से  ।

जो दुनियाँ ने दिये , रिस रहे  उन घावों  से ।।

कह “अनंग”करजोरि , सोचिये नित अपने मन ।

सतत विकास शील , रखना है अपना जीवन ।।

अनंग पाल सिंह भदौरिया” अनंग”

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.