#Muktak by Binod Kumar

हास्य कुण्डलियाँ

करनी ओछा कर लिया,पतिदेव बोल भैंस।

पत्नी क्रोधित हो गई,लगी जताने तैस।

लगी जताने तैस,मामला सारा बिगड़ा।

खाना पीना बंद,हुआ फिर ऐसा लफड़ा।

कह बिनोद कविराय,सजाती घर को घरनी।

अक्ल बड़ी या भैंस, बहस इस पर क्यों करनी।

बिनोद कुमार हँसौड़ा, दरभंगा ,बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published.