muktak by Dev Mani Mishra

“मुहब्बत में बना था जो वो रिश्ता भी अधूरा था !
हमारे ख्वाब का हर एक हिस्सा भी अधूरा था !!
अधूरेपन को पूरा हम सदा जीते रहे लेकिन ;
कहानी भी अधूरी थी वो किस्सा भी अधूरा था !!

Leave a Reply

Your email address will not be published.