muktak by kavi anil uphar

अब अमावस पूर्णिमा सी लग रही है ।

 साजिशी तम की तपिश भी घट रही है ।

 पाट दो इन फासलों को नफरतों के

 आइये ये दीप माला सज रही है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.