muktak by sanjay kumar giri

इन आँखों में जब भी नमी होगी ,
मेरे दिल में आपकी कमी होगी !
बहुत सताया आपकी यादों ने हमें ,
आप आये तो कदमों में जमी होगी !!

Leave a Reply

Your email address will not be published.