#Muktak by D M Gupta

एक छंद

बैठे बैठे प्रभु राम माता जानकी के साथ ,
गपशप बातों में कुछ यूं बतियाय रहे .
बात बात में ही जो प्रभु हिचकाय दिए ,
माता जी ने पूछा प्रभु किसे याद आय रहे .
प्रभुजी ने कहा नयी नहीं कोई बात यहाँ,
आ गया चुनाव सभी जुमले लड़ाय रहे .
वोटबैंक बन गया है नाम मेरा प्रिये आज ,
बीजेपी वालों को अब याद हम आय रहे .

कवि डी एम् गुप्ता “प्रीत”

Leave a Reply

Your email address will not be published.