#Muktak by Dinesh Pratap Singh Chauhan

“दोहे”
”””””””
मेरे भारत देश में ,.. बस इतना हो पाय।
सत्ताधारी सुधर लें,रामराज्य आ जाय।।
————————
रामराज्य के लिये तो,इतना रखिये ध्यान।
हम अपने हर कर्म से ,.साबित हों इंसान।।
————————-
रामराज्य यदि चाहिये,तो तू इतना जान।
कौशल्या दशरथ बने,. पहले हर इंसान।।
————————–
चाहत केवल राम की ,.. मन में केवल राम।
सुमिरन केवल राम का,रामराज्य हर ग़ाम।।
—————————
=========================
“दिनेश प्रताप सिंह चौहान”

Leave a Reply

Your email address will not be published.