#Muktak by Dr Drishan Kumar Tiwari Neerav

मुक्तक
एक नहीं सैकड़ों दशानन सारा देश डरा करता है ,
पुलिस प्रशासन लाख लगा हो सीताओं को हरा करता है,

दुनिया अवधपुरी बन जाए घर घर राम भले हों पैदा —

बिना विभीषण के कुछ भी हो रावण नहीं मरा करता है!
—- डॉ. कृष्ण कुमार तिवारी नीरव

Leave a Reply

Your email address will not be published.