#Muktak by Kundan kumar Mishra

आसमां के सितारों से मैं होकर के निकला हूँ,
मोहब्बत के आगे उसे भी खो-कर के निकला हूँ !
मैं कैसे रहता हूं, ये तुमको क्या खबर होगी?
बेवफाई के हर लम्हो पर मैं रो-कर के निकला हूँ !!
394 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.