#Muktak by Mithilesh Rai Mahadev

सोचता हूँ आज तुमसे मुलाकात कर लूँ!

रात की तन्हाई में तुमसे बात कर लूँ!

तेज कर लो तुम फिर से तीर-ए-नज़र को,

जख्मों को सह लेने की करामात कर लूँ!

 

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

35 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.