#Muktak by Mithilesh Rai Mahadev

मेरी शामें–तन्हाई न खाली जाएगी!

मेरी जुबां पे फिर से आह डाली जाएगी!

सोहबत बुरी है मेरी दिलजलों से साकी,

मयखानों से गम की राह निकाली जाएगी!

 

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Leave a Reply

Your email address will not be published.