#Muktak By Saurabh Dubey Sahil

मुक्तक ~

वो माँ भारती का लाल था,
सरहदों को लाल कर गया,
हम सब चैन से होली खेलें
देश की मिट्टी को गुलाल कर गया।

~ सौरभ दुबे ” साहिल “

Leave a Reply

Your email address will not be published.