#Muktak By Saurabh Dubey Sahil

मुक्तक ~

शहरों के आलीशान महलों में रहने वाले,
सुकून के लिए गाँव ढूढते है,
जीवन भर माँ बाप का दिल दुखाने वाले,
मोक्ष के लिए पांव ढूढते है।

~ सौरभ दुबे ” साहिल “

Leave a Reply

Your email address will not be published.