#Pratiyogita Kavita By Anita Mishra

पाखण्ड को हटाना होगा ।।

सन्यासी का चोला पहन पाखण्ड करना है आसान ।

निष्काम भाव से भक्ति करना होता दुस्कर है काम।

हिंसा और लालच से हमारा देश हुआ है बदनाम ।

धर्म के नाम पर बाबाओं ने भी है खूब कमाया नाम ।

घर – घर में रावण बसा है कैसे अब संभले लोग ।

लोभ- लालच और स्वार्थ में पड़कर कर रहे है भोग ।

हर जगह अधर्म और हर जगह छल हो रहा है ।

विवेकी – संयमी लोग भी अब खून के आँसू रो रहा है ।

राम – राज्य में एक रावण था अब तो रावण हज़ार ।

एक राम से कुछ न होगा हर घर में हो अवतार ।

राम – राज्य लाना है तो पाखण्ड – छल को मारना होगा ।

सभी को शुद्ध – विचार करके दिल में राम बसाना होगा।

जब विचार में रावण हो तो भक्ति कभी न कीजिये ।

अब अपने मन के अशुद्ध – विचार को भी दहन कीजिये ।

आज फिर से सभी मिल राम के मर्यादा का वरण कीजिये ।। अनीता मिश्रा ” सिद्धि””

462 Total Views 3 Views Today

One thought on “#Pratiyogita Kavita By Anita Mishra

  • September 27, 2017 at 1:42 pm
    Permalink

    यथार्थ व सटीक रचना ।हार्दिक बधाई आदरणीया ।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *