#Pratiyogita Kavita By Dharmender Arora ‘Musafir’

विधा: गीतिका
छंद:आनंदवर्धक
मापनी:2122 2122 212
समांत: आम
पदांत:है
**********************
आज भी रावण बड़ा बदनाम है!
पापियों का मौत ही अंजाम है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
छोड़ जो अभिमान जीना सीख ले!
फिर उसे मिलता बड़ा आराम है!!
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
नार पे गंदी नज़र को डालना!
नीच,ओछा,कायराना काम है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
अंत पाए हर बुराई बस बुरा!
दिल हमारा दे रहा पैगाम है!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
आदमी करता प्रभु से गर दगा!
वो ज़माने में हुआ नाकाम है!!

673 Total Views 3 Views Today

One thought on “#Pratiyogita Kavita By Dharmender Arora ‘Musafir’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *