#Pratiyogita Kavita By Laxmi khanna Suman

दशमी विजय, आज का रावन
देखें ‘राम -रहीम’ में जन – जन
रोतीं कितनी नन्ही कलियाँ
ओले बरसाता है सावन
नाच रहे हैं कैसे दानव
कुचल दिया है सुंदर उपवन
आग लगाते घरों -घरों में
ज्यों लंका को फूंकें हनुमन
कैसे – कैसे जाल बिछाये
खुद पंछी देते तन मन धन
खेल रही है खेल सियासत
सस्ता कितना मानव जीवन
मगर कहाँ तक पाप छुपेगा
बदला लेगा  मसला यौवन
रो -रो कर अब पछताओ पर
होगी    उम्र  क़ैद    क़ानूनन
ध्वस्त   हुई   सोने का लंका
अब सिर पीट , आज के रावन
लक्ष्मी खन्ना ‘ सुमन ‘
नैनी आरचर्ड , नैनी बैंड , भीमताल रोड
भुवाली -263132
( नैनीताल )
उत्तराखंड
9719097992
313 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.