#Pratiyogita Kavita by Uday Shankar Chaudhari

आज का रावण उस रावण से ज्यादा अत्याचारी है
आर्तनाद तुम सुने नहीं फिर रोती सीता नारी है
——-
रामलला अभी वन में हीं अश्रु बहाए फिरते हैं
जोर जुल्म रावण का है ठोकर खाए फिरते हैं
—–
इस युग के रावण ने तो उस रावण को मात दिया
आज मनुजता हुई विकल निर्दयता से घात किया
——
राम अभी भी हैं वन में रावण सबके अंतर में है
पुतले जलते रावण के जिंदा रावण घर घर में है
——-
आज का रावण वेश बदल कर बम बारुद चलाता है
बसी बसाई बस्ती में नफरत की आग लगाता है
—–
हम रावण को देख रहे हैं काश्मीर की गलियों में
कैराना बंगाल में देखा देश के अक्सर गलियों में
——-
तुम्हें दिखाई नहीं देता ये दृष्टा सृष्टा हीं जाने
पर हमें दिखाई देता है भले ये दुनिया ना माने
——
आज जटायू भी मौन रावण अटहास रहा है
बहन बेटियों की अस्मत पल पल फांस रहा है
—–
वो रावण तो रोता होगा इस रावण के भय से
आज विभीषन बचा नहीं मैं कहता सत्य हृदय से
——–
धीरज का सम्बल टुटा राम हैं कोपभवन में
दशरथ जी ने तजा प्राण चिंतन और मनन में
——
विजया दशमी को रावण अब और नहीं जलाओ
पहले रावण मन का मारो रावण बाद जलाओ

Leave a Reply

Your email address will not be published.