shayari by Ankit Bhadouria “AkS”

“ख्वाब”

ღღ__नींद आँखों तक आने में, अब डरती है साहब;
.
इक रात इनमें कुछ ख्वाबों का, क़त्ल हो गया था !!.

Leave a Reply

Your email address will not be published.