shayari by dhingra sushil

कल रात जिंदगी से मुलाकात हुई थी

आखें हमारी बंद थी पर बात हुई थी

। आई वह और मुस्करा कर चली गई

सुबह उठे तो आखों से बरषात हुई थी।।

508 Total Views 3 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.