#Shayari by kavita singh

आइने जो दिल कभी थे आज़ पत्थर के हुए हैं

अक्स जो भी दिख रहे थे किर्च बन बिखरे हुए हैं

कविता सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published.