#Shayari by Kishor Chhipeshwar Sagar

तितलियों सी शरारत तेरी

खुशबू जैसी तू चंचल है

पल पल तुझे गुनगुनाया है मैनें

तू शायरी मेरी

तू मेरी गजल है”

 

-किशोर छिपेश्वर”सागर”

बालाघाट

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.