#Shayari by Saurabh Dubey Sahil

~ शायरी  ~

जाने क्यों तू हर रोज,

मौसम की तरह बदल रही हैं,

तुझे पता भी है जिन्दगी,

आइसक्रीम की तरह पिघल रही है

 

~ सौरभ दुबे ” साहिल ”

 

223 Total Views 6 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Whatspp dwara kavita bhejne ke liye yahan click karein.